Header Ads

Blog Mandli
indiae.in
we are in
linkwithin.com www.hamarivani.com रफ़्तार चिट्ठाजगत
Breaking News
recent

गीत

by 8:42 pm
तुम नही तो क्या ,तुम्हारी ज्योत्सना तो साथ है , आज काँटों का सुमन के हाथ में फ़िर हाथ है , रोशनी की लौ लपक कर चूमती आकाश को , और पतझर की उदास...Read More

गीत

by 8:19 pm
अर्चना के पुष्प का यह थाल, ज्यों दीप्त दीपित ,श्रेष्ठ ,उन्नत भाल , हर सुबह के साथ नया प्रकाश , नावों ने फहरा दिए फ़िर पाल,//अर्चना ...........Read More

ग़ज़ल

by 8:09 pm
दर्द के ,प्यास के पर क़तर जायेंगे , मुद्दतों बाद हम अपने घर जायेंगे , रौशनी बंद गलियों में फिरती रही , यह अंधेरे दियों को निगल जायेंगे , किस...Read More
© डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह. Blogger द्वारा संचालित.