Header Ads

Blog Mandli
indiae.in
we are in
linkwithin.com www.hamarivani.com रफ़्तार चिट्ठाजगत
Breaking News
recent
घुटन है बेहद ये खिड़की खोल तोदो ,
 फेंकते हो जाल क्यों ?कुछ बोल तो दो /

संधियों से छन रही है रोशनी ,
पाल जैसी तन रही है रौशनी ,
पतंगें हैं उम्र की ,तानों नहीं ,कुछ झोल तो दो //
दूसरों के लिए बस  बातें बची ,रह जाएँ तो है ,
टूटते विश्वाश सब जीने पड़े ,सह जाएँ तो है ,
आंसुओं के सब गणित हैं पास मेरे ,बोल तो दो //
रोकने से भी नहीं रुकता दुखी मन ,
झूट कैसे बोल सकता है भला दर्पण?
आज कल सबकुछ बिकाऊ है ,भला कुछ मोल तो दो //

5 टिप्‍पणियां:

  1. दिल क़ी गहराई से लिखी गयी एक रचना , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रियवर
    जीवन के अनेक पहलुओ में से कुछ पर आपके हस्ताक्षर करती ये कविता भिन्नी भीनी खुशबू छोड़ती बेहद सुन्दर है /
    thanks

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या बात है सर रोज़ कुछ और तीखी फिर कुछ और...क्या बात है ....वाह वाह
    चन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  4. नये ब्लॉग का सही पता यह है सर, प्लीज़..
    .angrezikiclass.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय, एक एक लाइन अपने आप मे बेहद उम्दा. वाह!
    -
    सपरिवार आपको नव वर्ष की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं.
    नव वर्ष २०११ और एक प्रार्थना

    उत्तर देंहटाएं

© डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह. Blogger द्वारा संचालित.