Header Ads

Blog Mandli
indiae.in
we are in
linkwithin.com www.hamarivani.com रफ़्तार चिट्ठाजगत
Breaking News
recent

ग़ज़ल

जाने क्यों जीवन में शेष बस उदासी है ?
मुस्कानें ग़ायब हैं ,जेब में उबासी है //
रूठने मनाने के झूठे सब नाटक हैं /
भूख बहुत ज्यादा है ,प्यास बहुत प्यासी है //
भूल रहे सपने हैं ,यादें हैं थकी-थकी /
पीडाएं ताज़ी हैं गीत सभी बासी हैं //
एक सी कहानी है,एक जैसे क़िस्से हैं /
गुदगुदी ये बचपन की बाकी जरा सी है //
अंधों की दुनिया पर गीत सब उजालों के /
लगता है दोपहरी शामों की दासी है //

4 टिप्‍पणियां:

  1. अंधों की दुनिया पर गीत सब उजालों के ,
    लगता है दोपहरी शामों की दासी है ।

    वाह, इस शेर का बिम्ब विधान अद्भुत है।
    बढ़िया ग़ज़ल।
    ...बधाई, डॉ. साहब।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा लिखा है आपने, आपका ब्लॉग "अपना ब्लॉग" में सम्मिलित कर लिया गया है अधिक जानकारी के लिए http://www.apnablog.co.in को विजिट कीजिए

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या कहूं, आप सबको पढ़ते हुए ही लिख रहा हूँ...बस!
    बहुत सुन्दर रचना रची है आपने! बस यूं ही जारी रहें.
    --
    व्यस्त हूँ इन दिनों-विजिट करें

    उत्तर देंहटाएं

© डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह. Blogger द्वारा संचालित.