Header Ads

Blog Mandli
indiae.in
we are in
linkwithin.com www.hamarivani.com रफ़्तार चिट्ठाजगत
Breaking News
recent

चाँद

आज फिर नभ में खिला है एक पूरा चाँद ,
पर तुम्हारे बिन लगा मुझको अधूरा चाँद,
बादलों के बीच करता है चहलकदमी ,
नापता है जिंदगी की ढेर सी दूरी ,
उम्र जिस आइने में देखती चेहरा ,
बस उसी आइने सा लगने लगा है चाँद//
मुश्किलें हैं ढेर सी पर प्यार भी तो है ,
कोई माने या न माने,फर्क क्या पड़ना ?
रोज इक सपना नया गढ़ना नए दिन में ,
बस पड़ोसन की हंसी सा जग रहा है चाँद//
चूड़ियों की खनखनाहट के नए मानी,
शब्द कोशों में भला कैसे मिलेंगे यार?
प्यार की पहली पहेली बुझनी होगी ,
सच, इन्ही हालात से तो डर रहा है चाँद//
+गुनगुनाता सृष्टि के प्रारंभ से वह गान,
जबकि मानव ने धरा पर आंख थी खोली,
बोलता तो था  पर न उसमे था कोई भी अर्थ ,
पर समझ ,सब कुछ समझता लग रहा है चाँद//
रोज गलियों से गुजरती ,इक किशोरी सा ,
आज भी खुद को परखता ,देखता तो है ,
भावना के ज्वार में बहना बहुत आसान,
इस लिए कुछ आज डगमग लग रहा है चाँद//

15 टिप्‍पणियां:

  1. भावना के ज्वार में बहना बहुत आसान, इस लिए कुछ आज डगमग लग रहा है चाँद|
    kya bat hai bahut sundar , badhai

    उत्तर देंहटाएं
  2. उम्र जिस आइने में देखती चेहरा ,
    बस उसी आइने सा लगने लगा है चाँद

    बहुत बढ़िया...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन में उठती भावनाओं के अनुसार ही बदलता दिख रहा है चाँद , बहुत खूबसूरती से आपने उतारा है इन भावनाओं को अपनी रचना में।

    उत्तर देंहटाएं
  5. टिप्पणी देकर प्रोत्साहित करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!

    उत्तर देंहटाएं
  6. उम्र जिस आइने में देखती चेहरा ,
    बस उसी आइने सा लगने लगा है चाँद

    खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. भावना के ज्वार में बहना बहुत आसान ,इसलिए कुछ आज डगमग लग रहा है चाँद ।
    चन्द्र कलाओं सा उमगता जीवन और उसकी अभिव्यक्ति बड़ी सटीक रही नही इस कविता में .

    उत्तर देंहटाएं
  8. चांद पर बहुत खूबसूरत कविता.

    Please see my old post of September 22, 2010 in my blog GHAZALYATRA .

    डॉ.भूपेन्द्र जी,सादर निवेदन है कि रीवा मेरी जन्मस्थली है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप सभी बंधू/बान्धवियों का ह्रदय से आभार ,ब्लॉग पर आने,ध्यान पूर्वक रचना का मूल्यांकन कर अपनी बहुमूल्य टिप्पणियों से उत्साह वर्धन करने के लिए /स्नेह निरंतर बना रहेगा यह विश्वास है /
    सादर,
    डॉ.भूपेन्द्र सिंह
    रीवा /म.प्र

    उत्तर देंहटाएं
  10. चांद में प्रतिबिंबित जीवन स्‍पंदन.

    उत्तर देंहटाएं
  11. चांद पर बहुत खूबसूरत कविता|

    उत्तर देंहटाएं

© डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह. Blogger द्वारा संचालित.