Header Ads

Blog Mandli
indiae.in
we are in
linkwithin.com www.hamarivani.com रफ़्तार चिट्ठाजगत
Breaking News
recent

गीत

कोई सपना है जिसे आंखों ने फ़िर पाया है ,
एक आइना है जिसमे तू नज़र आया है ,
रंग है रूप है ,कुछ धूप है जवानी की ,
याद है ,दर्द है ,कुछ प्यास हैंकहानी की ,
कितनी सांसों के उजाले में तुझे देखा है ,
मेरी तन्हाई में तू रौशनी की रेखा है ,
कितना सुख खोया है तब जा के तुझे पाया है //
किस से पूछेंगे किस से बोलेंगे ?
अपना मन किस से किस से खोलेंगे ?
मेरे आंसुओं पे कोई हंस न पड़े ,
आज हर आदमी के अपने दुःख बहुत हैं बड़े ,
तू बहुत दिनों के बाद याद आया है //
मैं जानता हूँ मेरी याद तो आती होगी ,
तेरे आँगन की हरी नीम भी गाती होगी ,
गूंजती होगी वो आवाज अजानों की कहीं ,
घंटे ,घडियालों की ,मन्दिर की प्रभाती होगी ,
शाम है ,रौशनी है ,मेरे कमरे की बड़ी छाया है //

6 टिप्‍पणियां:

  1. तू बहुत दिनों के बाद याद आया है //
    मैं जानता हूँ मेरी याद तो आती होगी ...boht sunder likhte hai aap...

    उत्तर देंहटाएं
  2. KYA BAAT HAI SIR JI BAHUT ACCHE SHABDON SE YE RACHNA PIUROI HAI BAHUT HI KHUB......

    अक्षय-मन

    उत्तर देंहटाएं
  3. मैं जानता हूँ मेरी याद तो आती होगी ,
    तेरे आँगन की हरी नीम भी गाती होगी ,
    .....मेरी तन्हाई में तू रौशनी की रेखा है ,...
    गायन में भी तू ,छाया में भी तू, तन्हाई में भी तू ....( सारी कायनात मुझे तुझमें नज़र आती है ) वाहभूपेन्द्र जी ,बहुत अच्छा !

    उत्तर देंहटाएं
  4. मनभावन .

    पता चला की आपौ प्रतापगढ क अह्या . बड़ी खुशी भ .

    उत्तर देंहटाएं

© डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह. Blogger द्वारा संचालित.