Header Ads

Blog Mandli
indiae.in
we are in
linkwithin.com www.hamarivani.com रफ़्तार चिट्ठाजगत
Breaking News
recent

ग़ज़ल

मैं आदमी हूँ ,मुझे आदमी ही रहने दो/
रोज के रंज ओ ग़म लाचारगी से सहने दो //
दोस्त के तेग से बच पाया है कोई सीजर?
मुझे अनजान सड़क पर नदी सा बहने दो//
कितना समझाऊँ अपने आपको की मै जिन्दा हूँ/
मुझे खामोशियों के इस शहर में रहने दो//
इन हवाओं ने ग़ुल कर दिए हैं कितने चिराग /
तो भी तुम नूर का दरिया हो,मुझको कहने दो//

5 टिप्‍पणियां:

  1. मैं आदमी हूँ ,मुझे आदमी ही रहने दो/
    रोज के रंज ओ ग़म लाचारगी से सहने दो //

    बहुत बढ़िया ....सुंदर ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब! आप हमेशा वैसे ही आगे बढ़ते जाते हैं जैसे अर्जुन कृष्ण का एक राग समझ ही पाता है कि भगवन दूसरा राग छेड़ देतें हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपने 'जीवन संदर्भ' बहुत सुन्दर ढंग से प्रस्तुत किया है अपनी इस अनुपम अभिव्यक्ति में.

    मैं आदमी हूँ ,मुझे आदमी ही रहने दो/
    रोज के रंज ओ ग़म लाचारगी से सहने दो //

    खूबसूरत प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैं आदमी हूँ ,मुझे आदमी ही रहने दो/
    रोज के रंज ओ ग़म लाचारगी से सहने दो //
    ...bahut badiya gajal..

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैं आदमी हूँ ,मुझे आदमी ही रहने दो/
    रोज के रंज ओ ग़म लाचारगी से सहने दो

    waah sir kya likha hai waah dil se nikli hai awaaz bilkul...

    aapka akshay

    उत्तर देंहटाएं

© डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह. Blogger द्वारा संचालित.