Header Ads

Blog Mandli
indiae.in
we are in
linkwithin.com www.hamarivani.com रफ़्तार चिट्ठाजगत
Breaking News
recent

फागुनी गीत

माटी अब अबीर हो गयी ,
जिन्दगी कबीर होगई ,
सपने सब गुलाल हो गए ,
उम्र के बवाल हो गए //

सांसों मे महक गया चन्दन ,
फागुन का शत शत अभिनन्दन ,
अधरों पर धधक उठा टेसू ,
मौसम ने लहराए गेसू //

इंद्र धनुष रंगों का जागा,
नेह का जुड़ा सबसे धागा ,
इठलाती नीम राग गाती ,
मंदिर मे हो रही प्रभाती //

रस कच्ची अम्बिया में जागा ,
अधरों ने अधरों को माँगा ,
चटक गया दर्पण शरमाया ,
यौवन ने ऐसा बहलाया //

हरियाली भाषा सी बोली ,
महक उठी माथे पर रोली ,
गोरी सी एड़ी पर लाली ,
होरी फिर आयी मतवारी //

11 टिप्‍पणियां:

  1. पारम्परिक बिम्बों का नयी शब्द-योजना के साथ प्रयोग अच्छे लगे। भावभिव्यक्ति भी अच्छी है। साधुवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ..बढ़िया फागुन गीत।
    ..होली फिर आयी मतवाली..भी चलेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. माटी अब अबीर हो गयी ,
    जिन्दगी कबीर होगई ,
    सपने सब गुलाल हो गए ,
    उम्र के बवाल हो गए //
    बहुत सुन्दर फागुनी रंग बिखर रहे हैं हर पँक्ति मे। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. फागुन के रंग में भींगी सरस कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रणाम,
    हमेशा की तरह बहुत सुन्दर और उम्दा लेखन.
    --
    विजिट करें

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर गीत है ये ... हवे अ गुड डे
    विसीट मायी ब्लॉग
    Music Bol
    Lyrics Mantra

    उत्तर देंहटाएं
  7. रंगों की धार मानिन्‍द बह निकले दोहे.

    उत्तर देंहटाएं

© डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह. Blogger द्वारा संचालित.