Header Ads

Blog Mandli
indiae.in
we are in
linkwithin.com www.hamarivani.com रफ़्तार चिट्ठाजगत
Breaking News
recent
शहनाई के सुर............


शहनाई के मीठे सुर से कुछ पल को यूं बात हुई ,
जैसे तेरा दामन पकड़ा ,तुम से इक मुलाकात हुई,
खोया खोया चाँद किसी की यादों मे यूं डूबा है ,
होश नही है कब दिन डूबा और कब फिर से रात हुई ,
तेरी मेरी हस्ती मिल कर जब से एक हुई जानब,
हर मौसम खुशियों का मौसम,मुस्कानें सौगात हुईं ,
हर दिन लम्हे जैसा झट से कब फिसला यह पता नही ,
मेरे आँगन के फूलों पर यादों की बरसात हुई ,
तुम को पास बिठा कर भर लूं आँखों मे ,महसूस करूँ ,
तुम बिन ना जी पाने की ही कमज़ोरी जज़्बात हुई ,
सबके लब पर अपने क़िस्से,आख़िर ऐसा क्या है जो?
बाज़ बहादुर ,रूपमती की जैसी अपनी जात हुई ,//

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत उम्दा और लाजबाब!! बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. तुम को पास बिठा कर भर लूं आँखों मे ,महसूस करूँ ,
    तुम बिन ना जी पाने की ही कमज़ोरी जज़्बात हुई ,hmesha ki tarah dil ko chhone wali rachna.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. Marvellous. I cant imagine thsi poetry is written by teh same person whom I find quite often in Shilpi Plaza.... Beautiful...
    Chandar Meher
    lifemazedar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर दिन लम्हे जैसा झट से कब फिसला यह पता नही ,
    मेरे आँगन के फूलों पर यादों की बरसात हुई ,

    सबके लब पर अपने क़िस्से,आख़िर ऐसा क्या है जो?
    बाज़ बहादुर ,रूपमती की जैसी अपनी जात हुई ,//

    भूपेंद्र जी क्या बात है...भाई वाह...निहायत ही खूबसूरत लहजा है आपका...बहुत पसंद आया....लिखते रहें...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. शहनाई के मीठे सुर से कुछ पल को यूं बात हुई ,
    जैसे तेरा दामन पकड़ा ,तुम से इक मुलाकात हुई

    waah....!!
    खोया खोया चाँद किसी की यादों मे यूं डूबा है ,
    होश नही है कब दिन डूबा और कब फिर से रात हुई ,

    bahut khoob ....!!

    तुम को पास बिठा कर भर लूं आँखों मे ,महसूस करूँ ,
    तुम बिन ना जी पाने की ही कमज़ोरी जज़्बात हुई

    उम्दा और लाजबाब....!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही ख़ूबसूरत और शानदार रचना लिखा है आपने! दिल को छू गई आपकी ये रचना ! इस बेहतरीन रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं

© डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह. Blogger द्वारा संचालित.